आध्यात्म हेल्थ & ब्यूटी

ज्योतिष : जानिए ज्योतिष और उदर रोग (पेटदर्द ) का सम्बन्ध

प्रिय पाठकों,ज्योतिष शास्त्र ग्रहों के चलन, उनके समागम या वियोग से सामान्य जन जीवन, पृथ्वी व मनुष्य जाति पर होने वाले शुभाशुभ प्रभावों का निर्धारण तथा उससे होने वाले परिवर्तनों (सुख-दुख) का ज्ञान कराता है। आकाशीय पिंडों, ग्रहों के परिचालन द्वारा उत्पन्न होने वाले योगों की गणना एवं उनसे होने वाले दुष्प्रभावों को गणना द्वारा प्रतिपादित करना इस शास्त्र का प्रमुख उद्देश्य है जिनमें दुखरूपी व्याधि, अनिष्ट कृत्य, किसी कार्य में विलंब तथा संखरूपी व्याधि परिहार, मांगलिक कार्य इत्यादि का संपादन करता है। ज्योतिष शास्त्र में अनेक प्रकार के रोगों का वर्णन किया गया है। आयुर्वेद के अनुसार कहा है कि ”शरीर व्याधि मन्दिर“ अर्थात शरीर रोगों का घर है। जब रोग होंगे तब रोग के प्रकार होंगे, किस अवस्था में कौन सा रोग होगा इसका वर्णन ज्योतिष के होरा शास्त्र में वर्णित है।

षड्यन वेदांगों में ज्योतिष शास्त्र जिसे वैदिक वांङमय के मतानुसार वेदों के नेत्र रूप में निर्देशित किया गया है। अर्थात बिना इस शास्त्र के ज्ञान के हमें काल ज्ञान नहीं हो सकता।

यजुर्वेद के इस मंत्र द्वारा यह कामना की गयी है – भद्रं कर्मेभिः श्रृणुयाम देवा भद्रं पश्येमाक्षभिर्य जत्राः। स्थिरैरजै तुष्टवा सस्तनूभित्र्यशेयहि देवहितं यदायुः।।

ज्योतिष शास्त्र में अनेक प्रकार के रोगों का वर्णन किया गया है। आयुर्वेद के अनुसार कहा है कि ”शरीर व्याधि मन्दिर“ अर्थात शरीर रोगों का घर है। जब रोग होंगे तब रोग के प्रकार होंगे, किस अवस्था में कौन सा रोग होगा इसका वर्णन ज्योतिष के होरा शास्त्र में वर्णित है। मनुष्य स्वस्थ व दीर्घ जीवनयापन करता है। इसके लिए आवश्यक है कि समय से पूर्व उचित निदान, यह तभी संभव हैं जब कारण के मूल का ज्ञान बहुत से रोगों के कारण ज्ञात हो जाते हैं पर बहुतों के कारण अंत तक नहीं ज्ञात होते। रोगों का संबंध पूर्व जन्म से भी होता है।

आचार्य चरक लिखते हैं: कर्मजा व्याध्यः केचित दोषजा सन्ति चापरे।

त्रिषठाचार्य ने भी लिखा है- जन्मांतरम् कृतं पापं व्यधिरुपेण जायते।

अर्थात कुछ व्याधियां पूर्व जन्मों के कर्मों के प्रभाव से होती हैं तथा कुछ व्याधियां शरीरस्थ दोषों (त्रिदोष-वात, पित्त, कफ) के प्रभाव से होती हैं। आचार्य कौटिल्य का कथन है कि सभी वस्तुओं का परित्याग करके सर्वप्रथम शरीर की रक्षा करनी चाहिए, क्योंकि शरीर नष्ट होने पर सबका नाश हो जाता है। महर्षि चरक ने भी उपनिषदों में वर्णित तीन ऐषणाओं के अतिरिक्त एक चैथी प्राणेप्रणा की बात कही है जिसका अर्थ है कि प्राण की रक्षा सर्वोपरि है। जैसा कि महाभारत के उद्योग पर्व में कहा गया है-

मृतकल्पा हि रोगिणः। रोगस्तु दोष वैषम्यं दोष साम्यम रोगत।

(अष्टांग हृदय 1/20)

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए इन तीन दोषों को संतुलित रखना पड़ता है क्योंकि सब रोगों का कारण त्रिदोष वैषम्य ही है। सभी रोगों के साक्षात कारण प्रकुपित दोष ही हैं ।

हमारे आचार्यों ने मनुष्य के प्रत्येक अंगों की स्थिति ज्ञात करने के लिए ज्योतिष शास्त्र में काल पुरुष की कल्पना की है, काल पुरुष के अंगों में मेषादि राशियों का समावेश किया गया हैः काल पुरुष के अंग सिर मेष मुख वृष बांह मिथुन हृदय कर्क उदर सिंह कटि कन्या वस्ति तुला गर्दन वृश्चिक उरु धनु जानु मकर जंघा कुंभ चरण मीन जातक स्कंध में मानव जीवन के विभिन्न पहलुओं को लग्नादि बारह भावों में विभक्त कर द्वादश भाव तनु, धन, सहज, सुहृत, सतु, रिपु, जाया, मृत्यु, धर्म, कर्म, आय व व्यय के नाम से जाने जाते हैं। इन बारह भावों में छठा भाव रिपु भाव है। इसे रोग भाव भी कहा जाता है। छठे भाव से रोग व शत्रु दोनों का विचार किया जाता है। आठवें व बारहवें भाव तथा भावेश का भी संबंध रोग से होता है।

पेट दर्द (उदर रोग विकार) उत्पत्र करने में भी शनि एक महत्वपुर्ण भुमिका निभाता हैं। सूर्य एवं चन्द्र को बदहजमी का कारक मानते हैं, जब सूर्य या चंद्र पर शनि का प्रभाव हो, चंद्र व बृहस्पति को यकृत का कारक भी माना जाता है। इस पर शनि का प्रभाव यकृत को कमजोर एवं निष्क्रिय प्रभावी बनाता हैं। पंडित “विशाल” दयानन्द शास्त्री के अनुसार बुध पर शनि के दुष्प्रभाव से आंतों में खराबी उत्पत्र होती हैं।

वर्तमान में एक कष्ट कारक रोग एपेण्डीसाइटिस भी बृहस्पति पर शनि के अशुभ प्रभाव से देखा गया है। शुक्र को धातु एवं गुप्तांगों का प्रतिनिधि माना जाता हैं। जब शुक्र शनि द्वारा पीडि़त हो तो जातक को धातु सम्बंधी कष्ट होता है। जब शुक्र पेट का कारक होकर स्थित होगा तो पेट की धातुओं का क्षय शनि के प्रभाव से होगा।बहुत आश्चर्य का विषय है की पेट का रोग और ज्योतिष द्वारा समाधान कैसे संभव है , लेकिन यह हर प्रकार से संभव है ! आज के इस युग में हर व्यक्ति उदर रोग से ग्रसित है ,किसी की समस्या ज्यादा , किसी की कम , लेकिन हर कोई परेशान है ,जो व्यक्ति ज्योतिष में रूचि या विश्वास रखते है उनके लिए यह एक जानकारी है की आप अपने कुंडली को देख कर मालूम कर सकते है की आप अपनी कुंडली के किस ग्रह से कब प्रभावित हो सकते है |

ज्योतिष शास्त्र में उदर का स्थान कालपुरुष की कुंडली में उदर का स्थान पंचम भाव है जिसकी राशि सिंह है। सिंह राशि जो पंचम भाव का कारक हैः उससे प्रभावित अंग उदर है जिसमें मन्दाग्नि, गुल्म, पथरी, पाण्डुरोग, यकृत इत्यादि के रोग उत्पन्न होते हैं। अतिसार संग्रहणी, प्लीहा, उदरशूल, अरुचि या मुंह का स्वाद बिगड़ना, अजीर्ण इत्यादि। चिकित्सकों का विचार है कि वीर्य का देह में विशेष महत्व है, वीर्य के क्षीण होने पर वायु विकृत हो जाती है जिससे पाचन तंत्र बिगड़ जाता है तथा मन्दाग्नि, गैस या गुल्म सरीखे रोग पैदा होते हैं।

उदर रोग के प्रमुख ज्योतिषीय कारण पराशर आचार्यों ने उदर रोग को निम्न प्रकार से रेखांकित किया है। षष्ठ भाव फलाध्याय में लिखते हैं कि षष्ठेश अपने घर, लग्न या अष्टम भाव में हो तो शरीर में व्रण (घाव) होता है। षष्ठ राशि में जो राशि हो उस राशि के आश्रित अंगों में रोग उत्पन्न होता है। राहु या केतु हो तो पेट में घाव होता है। जातकालंकार में लिखते हैं कि षष्ठेशे पापयुक्ते तनु निधन गते तनु निधनगते नु शरीरे व्रणास्युः जातक के जन्मांग चक्र में रोग का विचार मुख्यतः षष्ठ भाव, षष्ठेश, षष्ठ भावस्थ ग्रह, अष्टम भाव, अष्टमेश, अष्टम भावस्थ ग्रह, द्वादश भाव, द्वादशेश, द्वादशस्थ ग्रह, षष्ठेश से युक्त एवं दृष्ट ग्रहों द्वारा एवं मंगल ग्रह द्वारा किया जाता है। इसमें हमें ग्रह राशियों का भी ध्यान रखना चाहिए क्योंकि ये निर्बल, दोष युक्त या पुष्ट दोषयुक्त होकर रोगकारक, मारक या रोग निवारक बन जाते हैं।

उदररोग के ज्योतिषीय कारण जो प्रमुख रूप से उदर रोग को निर्देशित करने में सहायक होते हैंः ƒ सूर्य, मंगल, शनि, राहु-केतु में से तीन ग्रहों का एक स्थान पर युति करना पेट में विकार देता है। ƒ नीच राशि का चंद्रमा लग्नस्थ होकर मंगल, शनि या राहु से दृष्ट हो तो उदर रोग देता है। ƒपंचम भाव का संबंध पाचन तंत्र, पाचन क्रिया से है। सूर्य को पाचन तंत्र का नियंत्रक माना जाता है। हमारे प्राचीन विद्वानों का मत है कि पाचन क्रिया में रश्मियों का महत्वपूर्ण योगदान है। जब भी सूर्य आभाहीन होता है उदर में गड़बड़ी देता है। ज्योतिष का नियम है- औषधि, मणि, मंत्राणां, ग्रह नक्षत्र तारिका। भाग्य काले भवेत्सिहि अभाग्यं निष्फलं भवेत्।। सत्य ही कहा गया है कि जहां भौतिक विज्ञान की सीमाएं समाप्त होती हैं वहीं से अध्यात्म विज्ञान की सीमाएं प्रारंभ होती हैं।

शनिकृत कुछ विशेष उदर रोग योगः-

1 कर्क, वृश्चिक, कुंभ नवांश में शनिचंद्र से योग करें तो यकृत विकार के कारण पेट में गुल्म रोग होता है।

2 द्वितीय भाव में शनि होने पर संग्रहणी रोग होता हैं। इस रोग में उदरस्थ वायु के अनियंत्रित होने से भोजन बिना पचे ही शरीर से बाहर मल के रुप में निकल जाता हैं।

3 सप्तम में शनि मंगल से युति करे एवं लग्रस्थ राहू बुध पर दृष्टि करे तब अतिसार रोग होता है।

4 मीन या मेष लग्र में शनि तृतीय स्थान में उदर मंे दर्द होता है।

5 सिंह राशि में शनि चंद्र की यूति या षष्ठ या द्वादश स्थान में शनि मंगल से युति करे या अष्टम में शनि व लग्र में चंद्र हो या मकर या कुंभ लग्रस्थ शनि पर पापग्रहों की दृष्टि उदर रोग कारक है।

6 कुंभ लग्र में शनि चंद्र के साथ युति करे या षष्ठेश एवं चंद्र लग्रेश पर शनि का प्रभाव या पंचम स्थान में शनि की चंद्र से युति प्लीहा रोग कारक है।

बहुत आश्चर्य का विषय है की पेट का रोग और ज्योतिष द्वारा समाधान कैसे संभव है , लेकिन यह हर प्रकार से संभव है ! आज के इस युग में हर व्यक्ति उदर रोग से ग्रसित है ,किसी की समस्या ज्यादा , किसी की कम , लेकिन हर कोई परेशान है ,जो व्यक्ति ज्योतिष में रूचि या विश्वास रखते है उनके लिए यह एक जानकारी है की आप अपने कुंडली को देख कर मालूम कर सकते है की आप अपनी कुंडली के किस ग्रह से कब प्रभावित हो सकते है !

पंडित “विशाल” दयानन्द शास्त्री के अनुसार कुंडली में लगन में राहू और सप्तम स्थान में केतु हो तो व्यक्ति को लिवर में इन्फेक्शन होता है! आठवे भाव में बुध सूर्य के साथ मकर राशि के हो के बैठा है तो निश्चित तोर पर उस व्यक्ति को पेशाब से सम्बंधित समस्या होती है जैसे किडनी में स्टोन या इन्फेक्शन होता है ! कुम्भ लगन में सूर्य हो तो वह व्यक्ति हमेशा एसिडिटी ,बदहजमी तथा पेट में तनाव रहता है ,लगन कुंडली के बारहवे भाव में सिंह राशि का केतु शनि हो तो बवासीर की समस्या तथा गुदा रोग होता है ,अगर बृहस्पति सप्तम या अष्टम भाव में हो तो पीठ तथा पैरो में दर्द देते है !कुंडली देख के तमाम उन समसयाओं का समधान हो सकता है जो देखने में तो कम लगता है लेकिन असधारण होता है !क्यो की हर ग्रह का प्रभाव का एक हिस्सा होता है ! और उस आधार पर किस ग्रह का प्रभाव किस अंग पर पड़ रहा है तथा उसका दुस्प्रभाव क्या होगा इसका अध्यन कर इनके रोगों से बचा जा सकता है ! उपचार कई तरीके से होता है जैसे ग्रहों की शान्ति , रत्न धारण कर ,दान तथा उपवास द्वारा हर रोग का उपचार संभव है !

उदर योग ज्योतिषीय दृष्टिकोण भी रोगों का कारण उदर रोग को माना जाता है। जब तक पाचन शक्ति अच्छी रहती है तब तक जातक का शरीर भी हृष्ट पुष्ट रहता है। पाचन शक्ति की प्रबलता में कंद मूल या प्याज से रोटी खाने वाला भी तरोताजा एवं हृष्ट पुष्ट दिखता है। वहीं पाचन शक्ति कमजोर हो, तो पंचमेवा का सेवन करने वाला भी अति दुर्बल हो जाता है। वास्तव में पाचन क्रिया का समाप्त होना ही मृत्यु समझा जाता है। पाचक रसों में विकृति आने पर शरीर पर रोगों का आक्रमण आसानी से होता है।

रोग दो प्रकार के माने जाते हैं- निज रोग जिसे शारीरिक एवं मानसिक में विभक्त किया गया है और आगंतुक रोग जिसमें दृष्टि निर्मित व अदृष्ट निर्मित रोग आते हंै। शारीरिक रोग शरीर में वात पित्त व कफ की कमी या अधिकता से होते हैं और मानसिक रोग भय, शोक तथा क्रोध के कारण। ये रोग अष्टम भाव में स्थित राशि व उसके स्वामी अष्टमस्थ ग्रह व अष्टम भाव पर दृष्टि कारक ग्रह से युति दृष्टि किसी ग्रह या भाव कारक से होने पर होते हैं। आगंतुक रोग में दृष्टि रोग घात के कारण होते हैं तो अदृष्ट रोग देवी देवताओं के प्रकोप के कारण। इन रोगों का विचार छठे भाव, भावेश, षष्ठस्थ ग्रह व षष्ठ भाव पर दृष्टि कारक ग्रहों के अनुसार किया जाता है।

पंडित “विशाल” दयानन्द शास्त्री के अनुसार यदि जन्मांग में पंचम भाव, भावेश या कारक ग्रह का छठे भाव से सबंध हो, तो दोष विकृति के कारण रोग होता है। आगंतुक रोग होने पर जातक के लिए तंत्र मंत्र यंत्र का उपचार ही प्रभावी होगा।

पंडित “विशाल” दयानन्द शास्त्री

Related posts

अजर अमर है संकट मोचन श्री हनुमान

TAC Hindi

तनाव है तो होने दे, इसमें बुरा क्या है?

TAC Hindi

मानसून मे त्वचा का रखे खास ख़्याल

TAC Hindi

ओशो: बहु चर्चित व्यक्ति

TAC Hindi

सर्दियों में ऐसे करें त्वचा की देखभाल

TAC Hindi

देश दुनिया के लिये खराब चल रहे हैं ग्रह

TAC Hindi

Leave a Comment