विविध

ऐसे करें हिंदी भाषा के पेपर की तैयारी

सीबीएसई बोर्ड परीक्षाएं नज़दीक हैं। 10 वीं एवं 12 वीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए यह समय बहुत कीमती होता है उन्हें इस समय को बहुत ही सावधानी से खर्च करना चाहिए। 10 वीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए यह स्थिति तनावग्रस्त होती है। पहली बार बोर्ड में बैठने का भय भी रहता है जिसके कारण विषय को आत्मसात करने में व्यवधान उत्पन्न होता है। इससे कैसे बचा जाए ? जैसा कि हम जानते हैं कि सीबीएसई की 10 वीं (CBSE CLASS 10th) की परीक्षाएं 15 फरवरी से 20 मार्च तक चलेंगी। परीक्षा में ज्यादा समय नहीं रह गया है अब विद्यार्थियों को अपनी तैयारी तेज़ कर देनी चाहिए। इस बार सीबीएसई ने कई विषयों के प्रश्न-पत्र के प्रारूप में और प्रश्नों से संबंधित अंकों में भी बदलाव किया है। परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए विद्यार्थियों को प्रश्न-पत्र के सही प्रारूप की जानकारी होनी चाहिए। कई बार देखा गया है कि घंटों पढ़ने के बाद भी विद्यार्थी अच्छे अंक प्राप्त नहीं कर पाते क्योंकि कहीं न कहीं उनकी तैयारी में कमी रह जाती है। ऐसा तभी होता है जब विद्यार्थी समय और विषयों का सही नियोजन नहीं करते।

हिंदी की अध्यापिका होने के नाते उनकी इस समस्या के समाधान के लिए कुछ संकेत या सलाह हैं जिन्हें अपनाकर वह हिंदी भाषा के पेपर में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं।
  1. प्रश्नपत्र के प्रारूप में हुए परिवर्तन को समझने के लिए सीबीएसई की वेबसाइट cbse.nic.in पर जाएं।
  2. प्रश्नपत्र में दिए गए आवश्यक निर्देश अवश्य पढ़ें।
  3. अपठित अंश (गद्यांश) को ध्यानपूर्वक पढ़कर उत्तर लिखें।
  4. व्याकरण से संबंधित प्रश्नों के उत्तर देते समय व्याकरण के नियमों को ध्यान में रखें।
  5. पाठ्य पुस्तक पर आधारित 2 अंक के प्रश्न के उत्तर में प्रश्न से संबंधित कम से कम 2 और 3 अंक के प्रश्न के उत्तर में प्रश्न से संबंधित कम से कम 3 मुख्य और महत्वपूर्ण बिंदु अवश्य लिखें।
  6. पाठ्य पुस्तक से संबंधित गद्यांश एवं पद्यांश के प्रश्नों के सटीक और संक्षिप्त उत्तर दें।
  7. खंड – घ ( रचनात्मक लेखन ) नियम एवं प्रारूप के अनुसार ही लेखन करें। औपचारिक एवं अनौपचारिक पत्र को सही प्रारूप द्वारा संपन्न करें।
  8. संवाद लिखते समय निर्देशन चिह्न, उचित विरामचिह्न और छोटे वाक्यों का प्रयोग करें।
  9. शब्द सीमा को ध्यान में रखते हुए संकेत बिंदुओं के आधार पर ही निबंध लिखें।
  10. सभी प्रश्नों को ध्यानपूर्वक पढ़ें और यथासंभव क्रमानुसार उत्तर लिखें।
  11. निर्देशानुसार उचित एवं सटीक उत्तर शब्द सीमा के अंदर देने का प्रयास करें। अनावश्यक बातें न लिखें।
  12. हिंदी भाषा कोर्स ‘ बी ‘ ( रचनात्मक लेखन ) अनुच्छेद एक ही पैरा में हो, सूचना लेखन व विज्ञापन में बॉक्स अवश्य बनाया जाए।
डॉ. नीरू मोहन ‘ वागीश्वरी ‘
 डॉ. नीरू मोहन ‘ वागीश्वरी ‘ (लेखक शिक्षाविद्, स्वतंत्र लेखिका, समाज सेविका एवं प्रेरक वक्ता है।)

Related posts

लव राशिफल : यह रहेगा इस वर्ष 2020 के वेलेंटाइन पर प्यार के मामले का फल

TAC Hindi

कहानी: पहचान

TAC Hindi

देश दुनिया के लिये खराब चल रहे हैं ग्रह

TAC Hindi

Leave a Comment