कला साहित्य

रोमियों जूलियट की एक विचित्र यात्रा

नई दिल्ली, 11 दिसंबर : भारतेन्दु नाट्य उत्सव, आधुनिक हिंदी साहित्य के जनक भारतेन्दु हरिशचंद्र को श्रद्धांजलि है। दिल्ली सरकार के साहित्य कला परिषद द्वारा आयोजित समारोह यह समारोह 12 दिसंबर तक कमानी ऑडिटोरियम, मंडी हाउस में आयोजित किया जाएगा और अंतिम दो दिन एलटीजी ऑडिटोरियम, कोपरनिकस मार्ग में आयोजित होगा।
इस छह दिवसीय इस महोत्सव में कुछ प्रतिष्ठित समकालीन लेखकों और निर्देशकों के साथ प्रख्यात साहित्यकारों की प्रस्तुतियों का मंच पर प्रदर्शन किया जाएगा। उत्सव के पहले दिन, दर्शकों ने दया प्रकाश सिन्हा द्वारा लिखित नाटक सीढ़ियां को देखा और इसका निर्देशन अरविंद सिंह ने किया था। इसके बाद प्रतिभा सिंह द्वारा निर्देशित एक संगीतमय नाटक ‘राम की शक्ति पूजा’ का मंचन हुआ यह कविका महान कवि सूर्यकांत त्रिपाठी निराला द्वारा लिखी गई है।

तीसरे दिन, मूल रूप से शेक्सपियर द्वारा लिखित नाटक ‘रोमियो जूलियट की एक यात्रा’ प्रस्तुत की गई, जिसे मनोज कुमार त्यागी ने निर्देशित किया था। नाटक की शुरुआत एक ऐसे दृश्य से होती है जिसमें रोमियो अपने चरित्र के बिना किसी पूर्व पूर्वाभ्यास के मंच पर प्रवेश करता है और इससे अभिनेता और निर्देशक के बीच तनाव पैदा होता है। रोमियो कहता है कि वह अपने चरित्र को महसूस नहीं करता है और निर्देशक के हाथों की कठपुतली होने के बजाय, वह चाहता है कि उसे मापदंड के अनुसार अपने हिसाब से निर्णय लेने की स्वतंत्रता मिले। स्थिति और भी पेचीदा हो जाती है जब जूलियट के बजाय रोमियो अपने दोस्त से प्यार कर बैठता है और उसके पास अपने दोस्त से प्यार करने का कारण होता है। लेकिन निर्देशक इसकी अनुमति नहीं देता क्योंकि यह स्क्रिप्ट के खिलाफ है। इससे रोमियो परंपरा पर सवाल उठाता है और जीवन, मृत्यु, स्वतंत्रता और हिंसा पर बहस करता है और उन्हें शतरंज के दो पक्षों के रूप में वर्गीकृत करता है।

दिल्ली के रहने वाले मनोज कुमार त्यागी एक विज्ञान के छात्र थे, जिसके बाद उन्होंने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय से स्नातक की थी। उन्होंने राष्ट्रिय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न नाटकों में काम किया है। मनोज कुमार त्यागी ने दिल्ली विश्वविद्यालय, अंबेडकर विश्वविद्यालय, आईआईटी, दिल्ली जैसे प्रसिद्ध संस्थानों के साथ काम किया है। उन्होंने कई नाटकों का निर्देशन किया है और वर्तमान में विख्यात मारवाह फिल्म इंस्टीट्यूट से जुड़े हुए हैं जहां वह छात्र को अभिनय और निर्देशन का प्रशिक्षण दे रहे हैं। इसके अलावा, वह विभिन्न समाचार चैनलों के लिए भी काम कर रहे हैं।

Related posts

कविता “नाजुक रिश्ते”

TAC Hindi

समीक्षा: घास में छिपा मातृत्व

TAC Hindi

कहानी: पहचान

TAC Hindi

कविता : माँ

TAC Hindi

कविता: 5 अप्रैल नई उम्मीद का पर्व प्रकाश पर्व

TAC Hindi

बस वही ज़मीं चाहिए

TAC Hindi

Leave a Comment