Breaking News भारत

ओपन बार में तब्दील हो चुका है पॉलीटेक्निक मैदान!

सिवनी (साई)। अंग्रेजी शराब की दुकानें तो संचालित हो रही हैं पर मयजदों के सामने यह समस्या है कि वे मदिरा गटकें तो कहाँ बैठकर! शहर के वीरान इलाके, शालाओं के मैदान यहाँ तक कि पॉलीटेक्निक कॉलेज का खेल का मैदान भी खुले बार में तब्दील हो चुका है।

इस मैदान में सुबह और शाम के समय बड़ी तादाद में लोग सैर करने और खेलने के लिये आते हैं। मैदान के चारों ओर शराब की खाली बोतलें, फूटे काँच, बीड़ी – सिगरेट के ड्ट्ठे, खाली पैकेट, डिस्पोजेबल ग्लास, पानी के खाली पाऊच न जाने कितनी तरह की आपत्ति जनक चीजें यहाँ फैली पड़ी रहती हैं।

बताया जाता है कि रात गहराते ही इस पॉलीटेक्निक मैदान पर मयजदों की भीड़ जुटने लगती है। शराब के शौकीनों के द्वारा मैदान में जगह – जगह गोला बनाकर, कहीं दो या चार पहिया वाहन में तो कहीं खड़े होकर ही मदिरा पान किया जाता है। अनेक बार मयजदों के बीच वाद विवाद भी हो जाते हैं जिसके बाद शराब की खाली बोतलों पर नशैलों के द्वारा अपना गुस्सा निकाला जाता है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार रोज सुबह यहाँ खेलने आने वाले सद्भाव ग्रुप के सदस्यों के द्वारा मैदान पर पहुँचकर सबसे पहले मैदान में फैले काँच के टुकड़े और अन्य कचरे को बीना जाता है फिर उसके बाद खेल आरंभ किया जाता है। सद्भाव के सदस्यों ने बताया कि पॉलीटेक्निक मैदान की ख्याती इस कदर फैल चुकी है कि सुबह खाली बोतलें बीनने वाले भी यहाँ पहुँचने लगे हैं।

मजे की बात तो यह है कि मैदान के सामने ही पॉलीटेक्निक कॉलेज प्रशासन के प्रोफेसर्स यहाँ तक कि प्राचार्य का निवास भी है। यहाँ निजि सुरक्षा एजेंसी का एक चौकीदार भी प्राचार्य निवास के सामने बैठकर रात भर चौकीदारी करते रहते हैं। इसके बाद भी मयजदों के द्वारा इस तरह की हरकतों को अंजाम दिया जाता है, जो आश्चर्य का विषय है।

यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि मध्य प्रदेश गृह निर्माण मण्डल के द्वारा पॉलीटेक्निक कॉलेज की चारदीवारी का निर्माण कराया गया था। इसके एवज में शासन के द्वारा कुछ भूमि मण्डल को प्रदाय की गयी थी जिसमें समता नगर के एचआईजी और एमआईजी आवास बनाये गये हैं।

इस चारदीवारी में मातोश्री रेसीडेंसी के सामने एक छोटा सा छेद पहले कुछ लोगों के द्वारा कर दिया गया था, जहाँ से लोग आना – जाना करते थे। भाजपा शासनकाल में इस छोटे से छेद को बकायदा बड़ा (लगभग 25 फीट) का किया जाकर यहाँ एक रेम्प बना दिया गया है।

अब पॉलीटेक्निक मैदान से दो और चार पहिया वाहन फरार्टे भरकर आते जाते रहते हैं। यहाँ तक कि रात के समय तो यहाँ से भारी वाहन भी आना – जाना करते नजर आते हैं। बरसात का मौसम आरंभ हो चुका है। बारिश में मैदान से गुजरने वाले वाहनों के पहियों के निशान, इस मैदान पर बनेंगे जो सूखने के बाद खिलाड़ियों के लिये समस्या का कारण बन सकते हैं।

खिलाड़ियों और पैदल सैर करने वालों ने जिला प्रशासन से अपेक्षा व्यक्त की है कि पॉलीटेक्निक मैदान के इस अघोषित द्वार को तत्काल बंद कराया जाकर यहाँ होने वाली अनैतिक गतिविधियों पर तत्काल रोक लगायी जाये।

Related posts

धारा 35ए का हटना और नया कश्मीर

TAC Hindi

फिल्म रिव्यू : उजड़ा चमन

TAC Hindi

हैदराबाद एंकाउंटर, न्याय या न्याय की हत्या?

TAC Hindi

एशियन गेम्स में हरियाणवी खिलाड़ियों का शानदार प्रदर्शन जारी, 7 गोल्ड सहित अब तक जीते 21 मेडल

TAC Hindi

जानिये हँसी के पर्यायवाची राजू श्रीवास्तव को

TAC Hindi

कहां गुम हो रहे है ‘अरावली’ के पहाड़?

TAC Hindi

Leave a Comment