Breaking News कला साहित्य ख़बरें

लवकुश रामलीला : अरविंद केजरीवाल एवं भूमि पेंडारकर ने किया रावण दहन

रावण दहन के साथ ही विश्व प्रसिद्ध लवकुश रामलीला कमिटी द्वारा पिछले दस दिनों से आयोजित रामलीला का मंगलवार दशहरा को समापन हो गया। रामलीला के दसवें दिन मंगलवार को रावण दहन का भी भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं बॉलीवुड की समर्थ अभिनेत्री भूमि पेंडारकर ने भी अपनी गरिमामयी उपस्थिति दर्ज कराई और दोनों ने मिलकर दंभ, अहंकार, बुराई के प्रतीक दशानन का दहन किया।
|| TAC Hindi

खास बात यह कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रामलीला के मंच तक हवाई रथ से पहुंचे। रवण का दहन होते ही पूरा वातावरण ‘श्रीराम की जय’ के नोरों से गूंज उठा। अरविंद केजरीवाल ने भव्य रामलीला का आयोजन करने के लिए लवकुश रामलीला कमिटी की भूरि-भूरि प्रशंसा करने के साथ ही कमिटी के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल की हौसला आफजाई की।

मंगलवार की लीला की शुरुआत शिव द्वारा पार्वती को रामकथा सुनाने एवं इंद्र द्वारा राम को रक्त प्रदान करने के साथ हुई। इसके बाद समुद्र किनारे का दृश्य मंचित किया गया, जिसमें विभीषण द्वारा राम को रावण के यज्ञ के बारे में चेताने, राम के पक्ष में अगस्त्य मुनि द्वारा देवी पूजन, राम और अगस्त्य मुनि के बीच वार्तालाप, आकाश मार्ग से महाऋषि का आगमन जैसे प्रसंगों का मंचन किया गया। इसके बाद शुरू हुई युद्ध स्थल की लीला, जिसमें रावण द्वारा किए जा रहे अंतिम यज्ञ का विध्वंस, यज्ञ में जाने से पहले रावण का शिवलिंग से संवाद, राम-रावण युद्ध की शुरुआत के साथ रावण द्वारा लक्ष्मण को शिक्षा देना, शुक्राचार्य से रावण की प्रार्थना, रावण को नवग्रह की सूचना मिलना, हनुमान जी द्वारा नवग्रह को लंका से मुक्त करना, रवण-मंदोदरी के बीच अंतिम संवाद और रावण वध का मंचन किया गया। राम-रावण के बीच युद्ध में बिजली एवं तकनीक का अद्भुत इफेक्ट पेश किया गया, जिसने लोगों को बहुत ही रोमांचित किया।

अभिनेत्री भूमि पेंडारकर

अंतिम दिन की लीला में रावण के किरदार में अवतार गिल, श्रीराम के किरदार में गगन मलिक, लक्ष्मण की भूमिका में मोहित, विभीषण के किरदार में मनोज बक्षी हनुमान की भूमिका में निर्भय वाधवा, मोंदरी की भूमिका में पायस पंडित, सुग्रीम की भूमिका में हरीश पांडे आदि ने अपने इंद्रधनुषीं अभिनय से लोगों का भरपूर मनोरंजन किया।

Related posts

कविता: माँ और मैं

TAC Hindi

कहां गुम हो रहे है ‘अरावली’ के पहाड़?

TAC Hindi

फरीदाबाद प्रशासन ने दिये जरूरत मंदो की सहायता के आदेश ।

NCR Bureau

पुस्तक समीक्षा: नील कमल की कविता अर्थात कलकत्ता की रगों में दौड़ता बनारस

TAC Hindi

नोटिस के खेल से अभिभावक नाराज, मुख्यमंत्री से की शिकायत

TAC Hindi

पुराने ढर्रे पर चुनाव लड़ना पड़ा भारी…

TAC Hindi

Leave a Comment